नाशक जीव और बीमारी अध्ययन

नाशक जीव और बीमारी प्रकोप के लिए अनुकूल प्राचलों पर लक्षणीय अनुसंधान किया गया है ।

तापमान (अधिकतम और न्यूनतम दोनों ही), सापेक्ष आर्द्रता, वर्षा, मेघाच्छन्नता, मृदा आर्द्रता, पवन, प्रकाश का नाशक जीव और बीमारी घटनाओं पर प्रभाव है और इसीलिए, पूर्वचेतावनी माडल विकसित करने में उपयोगी है ।

इन प्राचलों के उपयोग से नाशक जीव मौसम कैलेण्डर भी बनाए गए हैं जो संदर्भ माध्यम के रुप में कार्य कर सकते हैं ।

इस संबंध में आरंभ की गई सहयोगी परियोजनाएं कपास पर अमरिकन सूंडी, कपास पर गुलाबी सूंडी, कपास पर चित्तकबरी सूंडी, तुअर पर फली वेधक से संबंधित है ।

पूर्व चेतावनी माडल विकसित करने के लिए नाशक जीव और बीमारी रिकार्डिंग स्टेशनों का संजाल स्थापित करने की योजना बनाई गई है ।

प्रभाग उत्तर-पश्चिम भारत में अपने पवन सूचक गुब्बारा –सह-सूक्ष्म मौसम विज्ञान वेधशालाओं के ज़रिये पवन के संबंध में टिड्डी के अभिगमन का अनुवीक्षण करता है ।