मृदा आर्द्रता अध्ययन

कृषि मौसम विज्ञान प्रभाग की अनुसंधान गतिविधियों पर वापस
कृषि जलवायवी जानकारी पर वापस

                                         

मृदा आर्द्रता आंकड़ें विश्लेषित किए गए जिससे की वर्षा वर्ष के विभिन्न संवर्गों में फसल संवृद्धि और मानसून पश्च मौसम में म्लान बिन्दु के नीचे मृदा आर्द्रता आंकड़ों की अवक्षय पद्धति को जाना जा सके । मौसम विज्ञान और जीव विज्ञान प्राचलों से विभिन्न परतों में मृदा आर्द्रता आकलन के लिए माडल विकसित किए गए हैं । इनके उपयोग से, अनेक स्टेशनों के लिए मृदा आर्द्रता और जल उपलब्धता अवधियां आकलित की गई हैं । शुष्क खेती पट्टे में अनेक स्टेशनों (कोविलपट्टी,अदूरथुराई,कोइम्बत्तूर, पट्टाम्बी, वारंगल, सामलकोट , चिनसुरा, करीमगंज , हगेरी , धारवाड , रायचूर , सोलापूर , नागपूर , परभणी , पाडेगांव ,पुणे ,  जालंधर , शाहजहांपूर , आग्रा , नई दिल्ली , सुरत , विरामगाम) के लिए इस निकाला गया है । सतही परत के साथ गहरी परतों के मृदा आर्द्रता सह संबंध के लिए माडल विकसित किए गए हैं ।